Skip to main content

Climate catastrophe: 67 NGOs call on banks to cease financing metallurgical coal

 
By Julia Hovenier, Helen Burley* 
A global group of 67 organisations led by BankTrack and Reclaim Finance is calling on 50 of the world’s largest banks to end all financial support for new metallurgical coal production and expansion. Metallurgical coal represents 14% of the world’s coal. Unlike thermal coal, it is predominately used for steelmaking and is refined into coke, a material combined with iron ore in a blast furnace to produce primary steel [1].
“The green steel transition is already underway, but financial institutions continue to invest in metallurgical coal—a dead end for the global steel industry and for the climate,” said Julia Hovenier, Banks and Steel Campaigner at BankTrack. "To prevent stranded assets and avoid deepening the climate emergency with their dollars, banks must swiftly adopt policies that halt the expansion of metallurgical coal."
According to a recent report by Reclaim Finance, while thermal coal investments face scrutiny for health and climate risks, metallurgical coal investments persist with less attention from banks. Despite 250 financial institutions adopting policies against thermal coal since the 2015 Paris Agreement, only 9 have similar policies for metallurgical coal.
Since 2016, the world’s biggest banks have provided US $557 billion in finance to the 50 biggest developers in the metallurgical coal sector. In 2021, the International Energy Agency said existing mines were sufficient to meet coking coal demand through 2050. Despite this, there are plans for new production capacities of 406 Mt per year, corresponding to more than a third of total consumption in 2021.
Due to its continued reliance on coal, the steel sector is responsible for an estimated 11% of global CO2 emissions and almost 30% of all industrial emissions. From mining to processing to transportation to combustion, metallurgical coal unleashes massive amounts of greenhouse gas emissions. If the banking industry continues to allow “business as usual” practices to continue, coal-based steelmaking is projected to consume nearly 25% of the world's remaining carbon budget by 2050.
The letters sent to 50 banks today call on them to end financial support for projects and companies that are investing in new metallurgical coal production and expansion. Of the 9 banks that have policies restricting finance for metallurgical coal, including BNP Paribas, Société Générale, HSBC, Westpac, and Caixa Bank, only three have corporate level exclusions [2]. This is despite the fact that only 1.4% of financing for met coal was direct project-financing since 2016.
“The world must urgently move away from coal-based steel production, and financial institutions bear a crucial responsibility in accommodating this transition,” emphasised Cynthia Rocamora, Industry Campaigner at Reclaim Finance. “It’s time to stop all types of finance for all types of new coal projects—thermal and metallurgical included.”
You can access the letter here.

Notes

[1] Primary steel is steel made from iron ore. It’s differentiated from secondary steel, which is made by recycling scrap steel.
[2] Reclaim Finance’s Coal Policy Tracker was updated in November 2023 to reflect the metallurgical coal policies of banks. They found that only nine banks have any policies regarding metallurgical coal: La Banque Postale, Societe Generale, BNP Paribas, CaxiaBank, Cathay United Bank, Lloyds Banking Group, Macquarie, HSBC, and Westpac. Of those nine, only the following three have corporate exclusions: Lloyds Banking Group, Societe Generale, and Macquarie. However, Reclaim Finance has analysed them all as “weak” exclusions because they do not directly target developers of new metallurgical coal projects.
---
Julia Hovenier is Banks and Steel Campaigner, BankTrack; Helen Burley is with International Media, Reclaim Finance

Comments

TRENDING

हिंदी आलोचना जैसे पिछड़ चुके अनुशासन की जगह हिंदी वैचारिकी का विकास जरूरी

- प्रमोद रंजन*   भारतीय राजनीति में सांप्रदायिक व प्रतिक्रियावादी ताकतों को सत्ता तक पहुंचाने में हिंदी पट्टी का सबसे बड़ा योगदान है। इसका मुख्य कारण हिंदी-पट्टी में कार्यरत समाजवादी व जनपक्षधर हिरावल दस्ते का विचारहीन, अनैतिक और  प्रतिक्रियावादी होते जाना है। अगर हम उपरोक्त बातों को स्वीकार करते हैं, तो कुछ रोचक निष्कर्ष निकलते हैं। हिंदी-जनता और उसके हिरावल दस्ते को विचारहीन और प्रतिक्रियावादी बनने से रोकने की मुख्य ज़िम्मेदारी किसकी थी?

साहित्य बोध में परिवर्तन: सत्तर के दशक में विचारधारा का महत्व बहुत अधिक था

- अजय तिवारी   सत्तर के बाद वाले दशक में जब हम लोग साहित्य में प्रवेश कर रहे थे तब दाढ़ी रखने, बेतरतीबी से कपड़े पहनने और फक्कड़पन का जीवन जीने वाले लोग बेहतर लेखक हुआ करते थे या बेहतर समझे जाते थे। नयी सदी में चिकने-चुपड़े, बने-ठने और खर्चीला जीवन बिताने वाले सम्मान के हक़दार हो चले हैं। यह फ़र्क़ जनवादी उभार और भूमण्डलीय उदारीकरण के बीच का सांस्कृतिक अंतर उजागर करता है। 

How Mahakavi Sri Sri defined political and cultural metamorphosis of Telugu society

By Harsh Thakor  Srirangam Srinivasarao, popularly known as Sri Sri, or called Mahakavi (The Great Poet), held a reputation like no other Telugu poet. Today, on June 15th, we commemorate his 40th death anniversary. Sri Sri transcended heights in revolutionary creativity or exploration, unparalleled, in Telegu poetry, giving it a new dimension. His poems projected the theme or plight of the oppressed people at a scale, rarely penetrated by poets, giving revolutionary poetry it’s soul.

Laxmanpur Bathe massacre: Perfect example of proto-fascist Brahmanical social order

By Harsh Thakor  The massacre at Laxmanpur-Bathe of Jehanabad in Bihar on the night of 1 December in 1997 was a landmark event with distinguishing features .The genocide rightly shook the conscience of the nation in the 50th year of Indian independence. The scale of the carnage was unparalleled in any caste massacre. It was a perfect manifestation of how in essence the so called neo-liberal state was in essence most autocratic. 

एनडीए सरकार में हिन्दू राष्ट्रवाद की दिशा: मुसलमानों का हाशियाकरण जारी रहेगा

- राम पुनियानी*  लोकसभा आमचुनाव में भाजपा के 272 सीटें हासिल करने में विफल रहने के बाद एनडीए एक बार फिर नेपथ्य से मंच के केंद्र में आ गया है. सन 1998 में अटलबिहारी वाजपेई एनडीए सरकार के प्रधानमंत्री बने थे. उस सरकार के कार्यकलापों पर भी भाजपा की राजनीति का ठप्पा था. उस सरकार ने हिंदुत्व के एजेंडे के अनुरूप संविधान की समीक्षा के लिए वेंकटचलैया आयोग नियुक्त किया, पाठ्यपुस्तकों का भगवाकरण किया और ज्योतिषशास्त्र व पौरोहित्य को विषय के रूप में पाठ्यक्रम में जोड़ा. सन 2014 और 2019 में बनी मोदी सरकारें तकनीकी दृष्टि से भले ही एनडीए की सरकारें रही हों मगर चूँकि भाजपा को अपने दम पर बहुमत हासिल था इसलिए अन्य घटक दल साइलेंट मोड में बने रहे और भाजपा ने बिना रोकटोक अपना आक्रामक हिन्दू राष्ट्रवादी एजेंडा लागू किया. इसमें शामिल था राममंदिर का निर्माण और अनुच्छेद 370 का कश्मीर से हटाया जाना. इसके अलावा सरकार की मौन सहमति से गाय और बीफ के नाम पर मुसलमानों की लिंचिंग की गयी और लव जिहाद और न जाने कितने अन्य किस्मों के जिहादों की बातें की गईं.

सदन की सबसे उंची गद्दी पर बैठे यह शख्स मर्यादाओं को अनदेखा कर मुंह फेरता रहा

- मनीष सिंह*   ओम बिड़ला को जब याद किया जाएगा, तो लोगों के जेहन मे भावहीन सूरत उभरेगी। सदन के सबसे उंची गद्दी पर बैठा शख्स, जो संसदीय मर्यादाओं को तार तार होते सदन मे अनजान बनकर  मुंह फेरता रहा।  मावलंकर, आयंगर, सोमनाथ चटर्जी और रवि राय ने जिस कुर्सी की शोभा बढाई, उसे उंचा मयार दिया.. वहीं ओम बिड़ला इस सदन की गरिमा की रक्षा मे अक्षम स्पीकर के रूप मे याद किये जाऐंगे। 

नरेन्द्र मोदी देवत्व की ओर? 1923 में हिटलर ने अपनी तुलना भी ईसा मसीह से की थी

- राम पुनियानी*  समाज के संचालन की प्रजातान्त्रिक प्रणाली को मानव जाति ने एक लम्बे और कठिन संघर्ष के बाद हासिल किया. प्रजातंत्र के आगाज़ के पूर्व के समाजों में राजशाही थी. राजशाही में राजा-सामंतों और पुरोहित वर्ग का गठबंधन हुआ करता था. पुरोहित वर्ग, धर्म की ताकत का प्रतिनिधित्व करता था. राजा को ईश्वर का प्रतिरूप बताया जाता था और उसकी कथनी-करनी को पुरोहित वर्ग हमेशा उचित, न्यायपूर्ण और सही ठहराता था. पुरोहित वर्ग ने बड़ी चतुराई से स्वर्ग (हैवन, जन्नत) और नर्क (हैल, जहन्नुम) के मिथक रचे. राजा-पुरोहित कॉम्बो के आदेशों को सिर-आँखों पर रखने वाला पुण्य (सबाब) करता है और इससे उसे पॉजिटिव पॉइंट मिलते हैं. दूसरी ओर, जो इनके आदेशों का उल्लंघन करता है वह पाप (गुनाह) करता है और उसे नेगेटिव पॉइंट मिलते हैं. व्यक्ति की मृत्यु के बाद नेगेटिव और पॉजिटिव पॉइंटों को जोड़ कर यह तय किया जाता है कि वह नर्क में सड़ेगा या स्वर्ग में आनंद करेगा.