सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

दाँव उल्टा पड़ा: राहुल गांधी के रूप में हम एक साधारण इंसान को नायक होते देख रहे हैं

- अमिता नीरव 
संघ औऱ बीजेपी ने राहुल गाँधी पर जो सोचकर ‘इन्वेस्ट’ किया था, उसके परिणाम गंभीर रूप से नुकसानदेह आ रहे हैं। ये थोड़ी अटपटी बात लग सकती है, लेकिन सोचिएगा कि संघ और बीजेपी ने राहुल गाँधी को जितना गंभीरता से लिया, उनकी संभावनाओं को लेकर वे जितना श्योर थे, उतना तो खुद राहुल और कांग्रेस भी नहीं थी।
इसीलिए राहुल को ‘पप्पू’ सिद्ध करने के लिए मेनस्ट्रीम मीडिया औऱ सोशल मीडिया सबको लगा दिया था। करोड़ों रुपए लगाकर उन्होंने राहुल को पप्पू सिद्ध किया, क्योंकि शायद वे जानते होंगे कि यदि इसकी छवि को नुकसान नहीं पहुँचाया गया तो भविष्य में ये हमारे लिए नुकसानदेह हो जाएगा।
मगर वो भी कहाँ जानते होंगे कि एक वक्त ऐसा आएगा कि तुम्हारा दाँव तुम्हें ही उल्टा पड़ जाएगा। गाँधी परिवार का एक अनिच्छुक और लापरवाह युवा एकाएक भारतीय राजनीति में चमकीली उम्मीद की तरह उभरकर आएगा और देखते-देखते मजबूत सत्ता के पैरों के नीचे से जमीन खींच लेगा।
मैं अक्सर सोचती थी कि हर युद्ध में लड़ाई के हथियार हमेशा ताकतवर तय करता है। जब कांग्रेस सॉफ्ट हिंदुत्व की तरफ बढ़ रही थी, तब तो मेरी इस हायपोथीसिस की तस्दीक ही हो गई थी। एक तरफ सत्ता का आक्रामक हिंदुत्व था उसके सामने कांग्रेस का हिंदुत्व... क्या परिणाम होगा?
वही, जो हुआ। कांग्रेस लगातार-लगातार हारने लगी। कांग्रेसी अलग-अलग वजहों से पार्टी छोड़-छोड़कर बीजेपी में शामिल हो गए। यहाँ तक कि अब बीजेपी कांग्रेस हो गई है। उस पर कांग्रेस का नेतृत्व एक ऐसे नौसिखिया युवा के हाथ में है, जिसे सार्वजनिक जीवन में पप्पू सिद्ध किया जा चुका है।
लगने लगा था कि अब कांग्रेस में राहुल, प्रियंका औऱ सोनिया के अलावा और कोई बचेगा ही नहीं। देश को राजा बाबू कांग्रेस मुक्त करके ही मानेंगे। तभी ये हो गया कि इस ताकतवर सरकार का सबसे ताकतवर इंसान राहुल गाँधी की वजह से भ्रम की स्थिति में आ पहुँचा है।
वह समझ ही नहीं पा रहा है कि किस करवट जाए कि उसे आराम मिले। अब तक का टेस्टेड कार्ड हिंदुत्व अब उसे बहुत निश्चिंत नहीं कर रहा है। राहुल की बिछाई पिच तो और भी ज्यादा असुविधाजनक है। मगर सत्ता में बने रहना है तो उस पिच पर उतरना ही होगा। 
अब तक जिनकी छवि ग्रेट ओरेटर की रही, वो अचानक लड़खड़ाने लगे। उनके पास न मुद्दे बचे, न काम, न योजना... इन शॉर्ट बताने के लिए कुछ बचा ही नहीं। इतना सब एकाएक कैसे हो गया? ये जो राहुल नाम का शख्स है, ये अब तक कहाँ था? जाहिर है, अपने पप्पू होने से लड़ रहा था। 
कुछ साल पहले कहीं अपने भाषण में राहुल ने बहुत सहज रूप से कहा था कि मोदी जी मेरी हँसी उड़ाते हैं, मुझे बुरा नहीं लगता है। मैं इससे सीखता हूँ। अब सोचती हूँ तो लगता है कि वो झूठ नहीं बोल रहा था। वो सच कह रहा था, उसने सचमुच सीखा है। 
जब राहुल राजनीति में आया, तब वो गाँधी परिवार की वंश परंपरा का उत्तराधिकारी होने के अतिरिक्त और कुछ भी नहीं था। परदादा, दादी, पिता औऱ फिर माँ के राजनीति में होने के चलते राजनीति में राहुल का होना उसकी स्वाभाविक परिणिति थी। 
अमेठी जैसी परंपरागत सीट से सांसद होने में भी राहुल की कोई उपलब्धि नहीं थी। तो आखिर राहुल गाँधी था क्या? क्यों संघ और बीजेपी ने इतने संसाधन, लोग, पैसा लगाया राहुल को पप्पू सिद्ध करने में! आज समझ आता है क्यों? क्योंकि वे राहुल गाँधी के ‘होने’ की संभावना से डरे हुए थे।
उनका डर सही सिद्ध हुआ, मगर इतने दुष्प्रचार, बदनामी, तरह-तरह के आरोप, इतनी सारी बाधाओं के बावजूद राहुल अपने रास्ते चलता रहा, बल्कि अपने रास्ते के पत्थर, काँटे हटाता रहा। यहाँ संघ और बीजेपी की रणनीति उलट गई। 
सोचती हूँ यदि राहुल की राह में इतने काँटे नहीं बिछाए गए होते, यदि उसे अमेठी का अदना सा सांसद ही रहने दिया होता। वह संसद आता, कभी नहीं आता। कुछ मुद्दों पर बोलता, कुछ पर नहीं बोलता। अक्सर महत्वपूर्ण मौकों पर अनुपस्थित हो जाता, अक्सर मुश्किल घड़ियों में रणछोड़ हो जाता, तो किसी को कोई नुकसान नहीं होता।
हरेक को खत्म करने की आक्रामकता ने राहुल गाँधी को ‘द राहुल गाँधी’ बना दिया। लगातार मिलने वाली हार में भी जिसका मनोबल नहीं टूटा। लगातार ट्रोल करने, चरित्र हनन करने और तरह-तरह के व्यवधान खड़े करने के बावजूद वह बना रहा, बल्कि मजबूत होकर उभरा। 
2019 के चुनाव के दौरान रवीश को दिए अपने इंटरव्यू में जब राहुल ने कहा कि 2004 का इकनॉमिक मॉडल 2010-11 तक आते-आते अपनी उपयोगिता खो चुका था तो लगा कि कितनी निर्ममता से राहुल ने अपनी ही सरकार के कामों का पोस्टमार्टम कर लिया है।
हाल ही में ‘राष्ट्रीय संविधान सम्मेलन’ के अपने भाषण में राहुल ने कहा, ‘कांग्रेस पार्टी को अपनी राजनीति बदलनी होगी, कांग्रेस ने भी गलतियाँ की है।’ सुनकर मन में राहुल के लिए सम्मान पैदा हुआ। ऐन चुनाव के बीचों बीच अपनी ही पार्टी की सरकार के लिए इस किस्म की साफगोई कैसे साध ली गई?
भारत जोड़ो यात्रा ने राहुल का ट्रांसफॉर्मेशन किया है और मैं समझती हूँ कि भारत जोड़ो यात्रा का विचार राहुल की व्यक्तिगत छवि को सुधारने के लिए आया होगा। अब इसे इस तरह से देखिए कि यदि छवि खराब करने का उपक्रम नहीं किया गया होता तो क्या भारत जोड़ो यात्रा की जाती?
मैं समझती हूँ, नहीं, क्योंकि एक अनिच्छुक और गैर महत्वाकांक्षी राजनेता जो मनमौजी है, जो राजनीति की पेचिदगियों से दूर रहता है। अपनी मस्ती में जीता है उसे क्या पड़ी थी कि वह भारत को समझने निकलता! मगर पप्पू से राहुल गाँधी तक के सफर को पाटते हुए राहुल आज जन नायक हो चले हैं।
हो सकता है कि इस बार भी सरकार न बदले। फिर से राजा बाबू ही प्रधानमंत्री हों, फिर से राहुल गाँधी को तरह-तरह से बदनाम करने, आरोप लगाने और मुश्किलें पैदा करने का उनका काम जारी रहे, मगर देश ने राहुल के रूप में एक नेता पा लिया है।
मुझे पता है ट्रोल की जाऊँगी, फिर भी कहूँगी कि राहुल के रूप में हम एक साधारण इंसान को नायक होते देख रहे हैं, जो असफल होने के बावजूद अपनी पथरीली राह पर न सिर्फ चल रहा है, बल्कि क्रूर प्रतिद्वंद्वी को भी उस पर चलने के लिए मजबूर कर रहा है। 
नोट - यदि आप विरोधी हैं, तब भी एक बार लखनऊ के राष्ट्रीय संविधान सम्मेलन का राहुल गाँधी का भाषण आपको जरूर सुनना चाहिए।
---
*स्रोत: फेसबुक 

टिप्पणियाँ

ट्रेंडिंग

हिंदी आलोचना जैसे पिछड़ चुके अनुशासन की जगह हिंदी वैचारिकी का विकास जरूरी

- प्रमोद रंजन*   भारतीय राजनीति में सांप्रदायिक व प्रतिक्रियावादी ताकतों को सत्ता तक पहुंचाने में हिंदी पट्टी का सबसे बड़ा योगदान है। इसका मुख्य कारण हिंदी-पट्टी में कार्यरत समाजवादी व जनपक्षधर हिरावल दस्ते का विचारहीन, अनैतिक और  प्रतिक्रियावादी होते जाना है। अगर हम उपरोक्त बातों को स्वीकार करते हैं, तो कुछ रोचक निष्कर्ष निकलते हैं। हिंदी-जनता और उसके हिरावल दस्ते को विचारहीन और प्रतिक्रियावादी बनने से रोकने की मुख्य ज़िम्मेदारी किसकी थी?

नरेन्द्र मोदी देवत्व की ओर? 1923 में हिटलर ने अपनी तुलना भी ईसा मसीह से की थी

- राम पुनियानी*  समाज के संचालन की प्रजातान्त्रिक प्रणाली को मानव जाति ने एक लम्बे और कठिन संघर्ष के बाद हासिल किया. प्रजातंत्र के आगाज़ के पूर्व के समाजों में राजशाही थी. राजशाही में राजा-सामंतों और पुरोहित वर्ग का गठबंधन हुआ करता था. पुरोहित वर्ग, धर्म की ताकत का प्रतिनिधित्व करता था. राजा को ईश्वर का प्रतिरूप बताया जाता था और उसकी कथनी-करनी को पुरोहित वर्ग हमेशा उचित, न्यायपूर्ण और सही ठहराता था. पुरोहित वर्ग ने बड़ी चतुराई से स्वर्ग (हैवन, जन्नत) और नर्क (हैल, जहन्नुम) के मिथक रचे. राजा-पुरोहित कॉम्बो के आदेशों को सिर-आँखों पर रखने वाला पुण्य (सबाब) करता है और इससे उसे पॉजिटिव पॉइंट मिलते हैं. दूसरी ओर, जो इनके आदेशों का उल्लंघन करता है वह पाप (गुनाह) करता है और उसे नेगेटिव पॉइंट मिलते हैं. व्यक्ति की मृत्यु के बाद नेगेटिव और पॉजिटिव पॉइंटों को जोड़ कर यह तय किया जाता है कि वह नर्क में सड़ेगा या स्वर्ग में आनंद करेगा.

ગુજરાતી સાહિત્યકારો જોગ એક ખુલ્લો પત્ર: અરુંધતિ રોય અને સાહિત્યકારની સ્વતંત્રતા

- પ્રો. હેમંતકુમાર શાહ*  માનનીય સાહિત્યકારશ્રીઓ, નમસ્કાર. અર્થશાસ્ત્ર અને રાજ્યશાસ્ત્રનો વિદ્યાર્થી હોવા છતાં હું ગુજરાતી, હિન્દી અને વૈશ્વિક સાહિત્યનો ચાહક અને વાચક હોવાને નાતે આપ સૌને વિનમ્રભાવે આ ખુલ્લો પત્ર લખી રહ્યો છું. આપને સલાહ આપવાની મારી કોઈ ઓકાત નથી પણ આપ સામે આક્રોશ અને વેદના વ્યક્ત કરી રહ્યો છું.

साहित्य बोध में परिवर्तन: सत्तर के दशक में विचारधारा का महत्व बहुत अधिक था

- अजय तिवारी   सत्तर के बाद वाले दशक में जब हम लोग साहित्य में प्रवेश कर रहे थे तब दाढ़ी रखने, बेतरतीबी से कपड़े पहनने और फक्कड़पन का जीवन जीने वाले लोग बेहतर लेखक हुआ करते थे या बेहतर समझे जाते थे। नयी सदी में चिकने-चुपड़े, बने-ठने और खर्चीला जीवन बिताने वाले सम्मान के हक़दार हो चले हैं। यह फ़र्क़ जनवादी उभार और भूमण्डलीय उदारीकरण के बीच का सांस्कृतिक अंतर उजागर करता है। 

एनडीए सरकार में हिन्दू राष्ट्रवाद की दिशा: मुसलमानों का हाशियाकरण जारी रहेगा

- राम पुनियानी*  लोकसभा आमचुनाव में भाजपा के 272 सीटें हासिल करने में विफल रहने के बाद एनडीए एक बार फिर नेपथ्य से मंच के केंद्र में आ गया है. सन 1998 में अटलबिहारी वाजपेई एनडीए सरकार के प्रधानमंत्री बने थे. उस सरकार के कार्यकलापों पर भी भाजपा की राजनीति का ठप्पा था. उस सरकार ने हिंदुत्व के एजेंडे के अनुरूप संविधान की समीक्षा के लिए वेंकटचलैया आयोग नियुक्त किया, पाठ्यपुस्तकों का भगवाकरण किया और ज्योतिषशास्त्र व पौरोहित्य को विषय के रूप में पाठ्यक्रम में जोड़ा. सन 2014 और 2019 में बनी मोदी सरकारें तकनीकी दृष्टि से भले ही एनडीए की सरकारें रही हों मगर चूँकि भाजपा को अपने दम पर बहुमत हासिल था इसलिए अन्य घटक दल साइलेंट मोड में बने रहे और भाजपा ने बिना रोकटोक अपना आक्रामक हिन्दू राष्ट्रवादी एजेंडा लागू किया. इसमें शामिल था राममंदिर का निर्माण और अनुच्छेद 370 का कश्मीर से हटाया जाना. इसके अलावा सरकार की मौन सहमति से गाय और बीफ के नाम पर मुसलमानों की लिंचिंग की गयी और लव जिहाद और न जाने कितने अन्य किस्मों के जिहादों की बातें की गईं.

મુસ્લિમો ઔરંગઝેબની સાથે આવેલા લોકો નથી, ભારતનાં તરછોડાયેલા અસ્પૃશ્ય-શુદ્ર લોકો છે

- વાલજીભાઈ પટેલ*  આ હિંદુ એટલે કોણ? માત્ર હિન્દુની ઓળખથી શું કોઈ મકાન પણ ભાડે આપે છે ખરું કે?  તરત જ જાતી પૂછવામાં આવશે. હકીકતમાં હિંદુ એટલે સવર્ણ હિંદુ અને હિંદુરાજ એટલે સવર્ણોનું રાજ. અને આવા હિંદુ રાજના નામે  મોદીની કંપની આ દેશમાં ફરીથી મનુની બ્રાહ્મણવાદી રામરાજ્યની વ્યવસ્થા સ્થાપવા માંગે છે. 

માતાપિતા તરફથી અભ્યાસનું જે બાળકો પર ભારણ છે એ મર્યાદા ઓળંગતું જાય છે

- તૃપ્તિ શેઠ*  Indian Expressમાં એક કોટાનો કિસ્સો છે (The boy who ran: A determined father, CCTV footage from eight stations led to runaway teen from Kota) જેમાં એક છોકરો જેની ઉમર 17 વર્ષની હતી તે  12મા ધોરણની પરીક્ષા આપવાની જગ્યાએ એ કોટાથી ભાગી ગયો. એ છોકરો 24/7 ફકત અભ્યાસ જ કરતો હતો અને એ NEETની પરીક્ષાની તૈયારી કરી રહ્યો હતો. એ એટલો બધો ટેન્શનમાં હતો કે એના માતાપિતા જે શહેરમાં રહેતાં હતાં એનું નામ જ ભૂલી ગયો હતો. એ ભણવામાં એટલો બધો રત રહેતો કે એના કોઈ જ દોસ્ત ન હતાં કે કોઈ સામાજિક સંબંધો ન હતાં. NEETની પરીક્ષાનું હાલ શું થયું તેની વાત ફરી કોઈ વાર.