सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

राम के महल में आग लगाता हनुमान: चर्चित सोशल मीडिया इनफ्लुएंसर दिलीप मंडल

- प्रमोद रंजन 
चर्चित सोशल मीडिया इनफ्लुएंसर दिलीप मंडल ने अचानक राजनीतिक पलटी मारी है और राजद-सपा-स्टालिन आदि के खेमे को छोड़ कर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के लिए बैटिंग करने लगे हैं। कई लोगों में उनके कथित पतन से दु:ख खीज और गुस्सा है।
लेकिन सवाल यह है कि दिलीप ने ऐसा किया क्यों? पिछले लगभग डेढ़ दशक में उन्होंने जो भी कमाया था, क्यों उसे गंवाने पर तुले हैं?
दिलीप पत्रकार रहे हैं, लेकिन उतने बड़े नहीं, जितना वे अपने समर्थकों को बताते रहे हैं। वे सुरेंद्र प्रताप सिंह की कोर टीम का हिस्सा कभी नहीं रहे। इसी तरह वे राजनेताओं से अपने मामूली परिचय काे भी अपने समर्थकों के बीच ऐसे घुमा-फिरा कर रखते हैं, जैसे वे राजनेता इनके बौद्धिक चेले हों। वे अपनी ऐसी कारगुजारियों को ‘कम्युनिकेशन की मास्टरी’ कहते भी हैं।
कुछ समय पहले तक हालत यह थी कि अगर दिलीप कह दें कि जो बाइडेन और शी जिनपिंग उनके कहने पर एक टेबल पर आ जाएंगे तो उनके दलित-पिछड़े समर्थक यह भी मान लेते।
खैर, मैंने उनकी पिछले लगभग एक महीने की फेसबुक पोस्टस ध्यान से देखी और समझने की कोशिश की कि वे क्या कर रहे हैं, क्यों कर रहे हैं और आगे क्या करना चाह रहे हैं।
अभी फेसबुक पर उनके तीन लाख से ज्यादा फॉलोअर हैं, और यह समझा जा सकता है कि इनमें से ज्यादातर दलित-पिछड़े हैं। उनकी पोस्ट सिर्फ फेसबुक पर ही नहीं, व्हाट्सएप ग्रुपों में भी सैकड़ो की संख्या में शेयर होती हैं। इसलिए उन पर समय दिया जाना बनता है। वास्तव में वे अलग से अध्ययन के पात्र हैं।
दिलीप स्वयं पीएचडी नहीं कर सके, और अभी दो-चार दिन पहले ही प्रोफेसर विवेक कुमार ने दिलीप पर बिना नाम लिए फेसबुक पर तंज किया था। दरअसल, कोई एक दशक पहले दिलीप ने जेएनयू के समाजशास्त्र विभाग में पीएचडी हेतु नामांकन लिया था और उनके गाइड विवेक कुमार थे। पीएचडी होना या न होना कतई महत्वपूर्ण नहीं है। लेकिन दिलीप में इतनी सलाहियत नहीं थी कि वे पीएचडी पूरी कर सकें। अंतत: जेएनयू के समाजशास्त्र विभाग ने उन्हें बाहर कर दिया, या वे स्वयं बाहर हो गए। लेकिन दिलीप तो कम्युनकेशन के मास्टर हैं! वे अपने नाम के आगे ‘प्रोफेसर’ लगाते हैं और उनके फॉलोअर भी यही मानते हैं। ऐसे ही एक और नवयुवक भी हैं। खैर, विवेक कुमार को इससे स्वभाविक तौर पर खीज होती होगी।
दिलीप न लेखक हैं, न चिंतक न सामाजिक कार्यकर्ता। उनको न समाजिक न्याय की मानवीय अवधारणा की समझ है, न इससे कोई आत्मिक लगाव है। वे अनेक बार इस बात को घुमा-फिरा कर स्वीकार भी करते रहे हैं। फेसबुक पर आने के बाद से ही उनका एकमात्र सरोकार जाति रहा है। वे जाति से इतर न कुछ सोचते हैं, न बोलते हैं। दिलीप की इस वैचारिकी को कोई भी उनकी फेसबुक पोस्टस, उनके लेखों और सार्वजनिक मंचों पर की गई टिप्पणियों में देख सकता है। उनकी इस जातिवादी सोच अब तक सहलाते रहे समाजवादियों और वामपंथियों को आज उनपर लांक्षन लगाने का कोई हक नहीं बनता। मीठा-मीठा गप्प और कड़वा थू, से कोई फायदा नहीं होने वाला। उन्हें दिलीप की बजाय अपनी सोच बदलने की जरुरत है।
खैर, दिलीप जैसे लोगों को राजनीतिक चश्मे से नहीं समझा सकता, उन्हें समझने के लिए जाति का चश्मा जरूरी है। दिलीप ने इधर अपनी कई पोस्टों में लिखा भी है कि वे “राजनीतिक नहीं, सामाजिक आदमी हैं।” हालांकि, हैं वे एक कैरियरिस्ट, जो जातिवाद इस्तेमाल अपने “पर्सनल ग्रोथ” के लिए करना चाहता है। वे इसे भी खुलेआम स्वीकार करते रहे हैं।
मैं 2006-2007 में पटना से एक पत्रिका जनविकल्प निकाला करता था। दिलीप का एक लेख वहां छपा था। जाति और सामाजिक न्याय जैसे विषय पर वह उनका शुरुआती लेख था। यह हमारे परिचय की शुरुआत थी।
दिसंबर, 2013 में फेसबुक पर प्रमोद रंजन और दिलीप मंडल के बीच चली बहस का अंश... बहस एक वेबसाइट पर ‘दो मैनेजिंग एडिटरों दिलीप मंडल और प्रमोद रंजन की फेसबुकी जंग’ शीर्षक से प्रकाशित  हुई थी:
दिलीप का मानना था कि दलित-पिछड़ों के बीच वैचारिक खेल के लिए काफी “स्पेस” है, क्योंकि सत्ता-केंद्रों के बारे में इनकी जानकारी का स्तर बहुत नीचा है और ये मूर्ख भी हैं। इसलिए हमें यहां ‘खेलना’ चाहिए। जल्दी ही उनकी यह सोच फेसबुक पोस्टों में भी दिखने लगी। इसी बात को लेकर मैंने फेसबुक पर ही अपनी असहमति जताई, उसके बाद हमारी मित्रता का रिश्ता कमजोर हो गया।
आजकल वे ईसाई मिशनरियों के खिलाफ आग उगल रहे हैं, जबकि वे ईसाई मिशनरियों में धर्मांतरण के लिए सबसे बदनाम सुनील सरदार की कोर टीम का हिस्सा रहे हैं। कुछ साल पहले मैंने एक फेसबुक पोस्ट में दलित लड़कियों का विवाह विदेशी ईसाई धर्म प्रचारकों से करवाने का विरोध किया तो वह बर्रे के छत्ते में हाथ डालने जैसा साबित हुआ था। उन्ही बर्रों में एक दिलीप भी थे।
दिलीप ने पिछले डेढ़ दशक में सचेत रूप से यादव और चर्मकार समुदाय के बीच अपनी वैचारिक पैठ बनाने की कोशिश की। ये दोनों ही समुदाय राजनीतिक रूप से मुखर हैं, दिलीप इनके सहारे वैतरणी पार करना चाहते थे।
लेकिन यादव समुदाय के बीच उनकी दाल नहीं गली। सामान्यत: यह समुदाय चाहता है कि सामाजिक न्याय के नाम पर अन्य लोग उसके पीछे चलें। अति-पिछड़ोंं में शामिल एक वैश्य समुदाय से आने वाले दिलीप मंडल ने वह कोशिश करके भी देख ली। लेकिन वैतरणी फिर भी दूर रही।
तो उन्होंने यादवों को छोड़ दिया। अब वह चर्मकार, अति-पिछड़ा वर्ग और आदिवासी समुदाय को संबोधित कर रहे हैं। यह सोशल मीडिया के रण में उनकी रोचक सोशल इंजीनियरिंग है।
वैसे, हमेशा की तरह उनकी बातों में कोई सार नहीं है, ठीक हमारे प्रधानमंत्री की तरह। सिर्फ थोथे तर्क और भांय-भांय करती तेज आवाज है, जो उन्हें सच्ची लग सकती है, जिनका तर्क और बुद्धि से कोई लेना देना नहीं है।
अब उन्हें लग रहा है कि संघ और भाजपा में दलित-पिछड़ों के बारे में बात करने वाले बुद्धिमान लोग कम हैं, इसलिए उन्हें वहां “स्पेस” मिल जाएगा। वे वहां ‘पर्सनल ग्रोथ’ की अधिक संभावना देख रहे हैं।
दिलीप इन दिनों वे फेसबुक पर मुसलमानों को आरक्षण देने का विरोध कर रहे हैं और कह रहे हैं कि इससे हिंदू दलित-पिछड़ों की हकमारी होगी।
लेकिन “जिसकी जितनी हिस्सेदारी, उसकी उतनी भागीदारी” की बात करने वाली सामाजिक न्याय की धारा में मुसलमानों को आरक्षण दिए जाने का समर्थन करने में क्या दिक्कत है? उच्चवर्णीय मुसलमान अन्य मुसलमानों से जरूर आगे बढ़े हुए हैं, लेकिन हिंदू सवर्णों की तुलना में सामाजिक रूप से पिछड़े हुए हैं। राज-काज में उनका प्रतिनिधित्व कम है।
वर्तमान में जो कोटा दलित, आदिवासी और पिछड़ों के लिए है, मुसलमानों को उससे अलग आरक्षण दिया जाना चाहिए। गरीब सवर्णों के लिए निर्धारित 10 प्रतिशत कोटा मुख्य रूप से हिंदू सवर्णों के पास जा रहा है। उसमें से 5 प्रतिशत मुसलमानों के लिए धर्म के आधार पर निर्धारित कर दिया जाए। धर्म के आधार पर अगर उन्हें दमन झेलना पड़ रहा है तो आरक्षण धर्म के अधार पर भी होना चाहिए।
हमें ऐसी मांग करनी चाहिए।
दिलीप की पिछले दिनों की पोस्टों में जाति के चश्मे में भिगो कर भाजपा की सांप्रदायिकता को समर्थन करने वाले तर्कों के अलावा और कुछ नहीं है। उनके सभी तर्कों का उत्तर दिया जा सकता है। लेकिन उसके लिए समय देने का मन नहीं होता।
बहरहाल, लब्बोलुआब यह है यादवों ने अपना हनुमान खो दिया है और अब वह लंका को सजा रहा है, और राम के महल में आग लगाने की फिराक में है।
---
प्रमोद रंजन की किताबों ‘बहुजन साहित्य की प्रस्तावना’ और ‘बहुजन साहित्येतिहास’ ने बहुजन साहित्य की अवधारणा को सैद्धान्तिक आधार प्रदान किया, वहीं उनके सम्पादन में प्रकाशित किताब ‘महिषासुर : एक जननायक’ ने वैकल्पिक सांस्कृतिक दृष्टि को एक व्यापक विमर्श का विषय बनाया। अभी हाल ही में राजकमल प्रकाशन समूह से उनकी किताब “बहुजन साहित्य की सैद्धांतिकी” प्रकाशित हुई है

टिप्पणियाँ

ट्रेंडिंग

हिंदी आलोचना जैसे पिछड़ चुके अनुशासन की जगह हिंदी वैचारिकी का विकास जरूरी

- प्रमोद रंजन*   भारतीय राजनीति में सांप्रदायिक व प्रतिक्रियावादी ताकतों को सत्ता तक पहुंचाने में हिंदी पट्टी का सबसे बड़ा योगदान है। इसका मुख्य कारण हिंदी-पट्टी में कार्यरत समाजवादी व जनपक्षधर हिरावल दस्ते का विचारहीन, अनैतिक और  प्रतिक्रियावादी होते जाना है। अगर हम उपरोक्त बातों को स्वीकार करते हैं, तो कुछ रोचक निष्कर्ष निकलते हैं। हिंदी-जनता और उसके हिरावल दस्ते को विचारहीन और प्रतिक्रियावादी बनने से रोकने की मुख्य ज़िम्मेदारी किसकी थी?

नरेन्द्र मोदी देवत्व की ओर? 1923 में हिटलर ने अपनी तुलना भी ईसा मसीह से की थी

- राम पुनियानी*  समाज के संचालन की प्रजातान्त्रिक प्रणाली को मानव जाति ने एक लम्बे और कठिन संघर्ष के बाद हासिल किया. प्रजातंत्र के आगाज़ के पूर्व के समाजों में राजशाही थी. राजशाही में राजा-सामंतों और पुरोहित वर्ग का गठबंधन हुआ करता था. पुरोहित वर्ग, धर्म की ताकत का प्रतिनिधित्व करता था. राजा को ईश्वर का प्रतिरूप बताया जाता था और उसकी कथनी-करनी को पुरोहित वर्ग हमेशा उचित, न्यायपूर्ण और सही ठहराता था. पुरोहित वर्ग ने बड़ी चतुराई से स्वर्ग (हैवन, जन्नत) और नर्क (हैल, जहन्नुम) के मिथक रचे. राजा-पुरोहित कॉम्बो के आदेशों को सिर-आँखों पर रखने वाला पुण्य (सबाब) करता है और इससे उसे पॉजिटिव पॉइंट मिलते हैं. दूसरी ओर, जो इनके आदेशों का उल्लंघन करता है वह पाप (गुनाह) करता है और उसे नेगेटिव पॉइंट मिलते हैं. व्यक्ति की मृत्यु के बाद नेगेटिव और पॉजिटिव पॉइंटों को जोड़ कर यह तय किया जाता है कि वह नर्क में सड़ेगा या स्वर्ग में आनंद करेगा.

ગુજરાતી સાહિત્યકારો જોગ એક ખુલ્લો પત્ર: અરુંધતિ રોય અને સાહિત્યકારની સ્વતંત્રતા

- પ્રો. હેમંતકુમાર શાહ*  માનનીય સાહિત્યકારશ્રીઓ, નમસ્કાર. અર્થશાસ્ત્ર અને રાજ્યશાસ્ત્રનો વિદ્યાર્થી હોવા છતાં હું ગુજરાતી, હિન્દી અને વૈશ્વિક સાહિત્યનો ચાહક અને વાચક હોવાને નાતે આપ સૌને વિનમ્રભાવે આ ખુલ્લો પત્ર લખી રહ્યો છું. આપને સલાહ આપવાની મારી કોઈ ઓકાત નથી પણ આપ સામે આક્રોશ અને વેદના વ્યક્ત કરી રહ્યો છું.

साहित्य बोध में परिवर्तन: सत्तर के दशक में विचारधारा का महत्व बहुत अधिक था

- अजय तिवारी   सत्तर के बाद वाले दशक में जब हम लोग साहित्य में प्रवेश कर रहे थे तब दाढ़ी रखने, बेतरतीबी से कपड़े पहनने और फक्कड़पन का जीवन जीने वाले लोग बेहतर लेखक हुआ करते थे या बेहतर समझे जाते थे। नयी सदी में चिकने-चुपड़े, बने-ठने और खर्चीला जीवन बिताने वाले सम्मान के हक़दार हो चले हैं। यह फ़र्क़ जनवादी उभार और भूमण्डलीय उदारीकरण के बीच का सांस्कृतिक अंतर उजागर करता है। 

एनडीए सरकार में हिन्दू राष्ट्रवाद की दिशा: मुसलमानों का हाशियाकरण जारी रहेगा

- राम पुनियानी*  लोकसभा आमचुनाव में भाजपा के 272 सीटें हासिल करने में विफल रहने के बाद एनडीए एक बार फिर नेपथ्य से मंच के केंद्र में आ गया है. सन 1998 में अटलबिहारी वाजपेई एनडीए सरकार के प्रधानमंत्री बने थे. उस सरकार के कार्यकलापों पर भी भाजपा की राजनीति का ठप्पा था. उस सरकार ने हिंदुत्व के एजेंडे के अनुरूप संविधान की समीक्षा के लिए वेंकटचलैया आयोग नियुक्त किया, पाठ्यपुस्तकों का भगवाकरण किया और ज्योतिषशास्त्र व पौरोहित्य को विषय के रूप में पाठ्यक्रम में जोड़ा. सन 2014 और 2019 में बनी मोदी सरकारें तकनीकी दृष्टि से भले ही एनडीए की सरकारें रही हों मगर चूँकि भाजपा को अपने दम पर बहुमत हासिल था इसलिए अन्य घटक दल साइलेंट मोड में बने रहे और भाजपा ने बिना रोकटोक अपना आक्रामक हिन्दू राष्ट्रवादी एजेंडा लागू किया. इसमें शामिल था राममंदिर का निर्माण और अनुच्छेद 370 का कश्मीर से हटाया जाना. इसके अलावा सरकार की मौन सहमति से गाय और बीफ के नाम पर मुसलमानों की लिंचिंग की गयी और लव जिहाद और न जाने कितने अन्य किस्मों के जिहादों की बातें की गईं.

ગુજરાતમાં શહેરોને સમકક્ષ ગામડાઓના વીકાસની પબ્લીક ડીમાન્ડ કેમ ઉભી નથી થતી

- કિરણ ત્રિવેદી  હું 1982માં વડોદરાથી ભણીને અમદાવાદમાં સેટલ થવા આવેલો, ત્યારે અમદાવાદ શહેરની વસ્તી 26 લાખ હતી. ત્યારે પણ અમદાવાદ શહેર ગીચ અને અનમેનેજેબલ લાગતું હતું. 20 વર્ષ પછી 2002 આસપાસ શહેરની વસ્તી ડબલ થઈ ગઈ હતી! 52 લાખની! આજે 2024માં વસ્તી અંદાજે 90 લાખની ગણાય છે!

ત્રણ નવા ફોજદારી કાયદાનો અમલ મોકૂફ રાખવા બાબતે સંબંધિત નાગરિકો તરફથી અપીલ...

- રમેશ સવાણી*  ચાલો, નાગરિક ધર્મ નિભાવીએ!  શ્રી એન.ચંદ્રબાબુ નાયડુ8 પ્રમુખ, તેલુગુ દેશમ પાર્ટી ને પત્ર. વિષય : ત્રણ નવા ફોજદારી કાયદાનો અમલ મોકૂફ રાખવા બાબતે સંબંધિત નાગરિકો તરફથી અપીલ...  ***