सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

चुनाव का मैसेज: इस चुनाव में दो बड़े नायक बन कर उभरे, राहुल गांधी और अखिलेश यादव

- शकील अख्तर 
तो क्या है चुनाव का मैसेज? सबसे बड़ा यह कि अहंकार किसी का नहीं रहता। इस चुनाव के शुरू होने तक या यह कहिए मंगलवार सुबह तक भी प्रधानमंत्री मोदी यह समझ रहे थे कि वे देश की ऐसी ताकत बन गए हैं जो इससे पहले कभी नहीं थी। न भूतो न भविष्यति! 
मगर मतगणना शुरू होते ही खबर आई कि बनारस से मोदी जी पीछे चल रहे हैं। हड़कंप मच गया। वैसे तो यह सामान्य बात है। चुनाव में प्रत्याशी आगे पीछे होते रहते हैं। मगर मोदी जी और उनका गोदी मीडिया यह मानता ही नहीं था कि मोदी जी भी पीछे हो सकते हैं। चाहे कुछ ही देर को हों। इलेक्शन कमीशन की साइट पर आ गया। मगर चैनल वाले दिखाने की हिम्मत नहीं कर पाए। जब यू ट्यूब पर चला, सोशल मीडिया पर चला तो एकाध चैनल ने हल्की सी पट्टी चलाई और फौरन हटा ली। एक डर का वातावरण था। 
मगर यूपी से फिर जो लहर चली थोड़ी देर में वह आंधी बन गई। और मोदी के साथ योगी को भी करारा झटका दे गई। मोदी योगी उनके भक्त, गोदी मीडिया किसी को उम्मीद नहीं थी कि यूपी में यह माहौल होगा। मगर इस चुनाव में दो बड़े नायक बन कर उभरे राहुल गांधी और अखिलेश यादव।
राहुल ने कहा था यूपी सबसे बड़ा उलटफेर करेगी। इंडिया गठबंधन 50 सीटों पर जीतेगी। अखिलेश ने भी ऐसा ही कहा था। जबकि गोदी मीडिया के एक्जिट पोल इंडिया को पांच सीटे भी देने को तैयार नहीं थे। 
मगर जनता ने मोदी और योगी दोनों का अहंकार तोड़ दिया। बता दिया कि वोट काम करने से मिलते हैं। बातों से नहीं। बुलडोजर लोगों का दिल नहीं जीत सकता। 
इस चुनाव ने दोनों के भविष्य पर प्रश्नचिन्ह लगा दिया। सारे नतीजे अभी आना बाकी हैं। मुकाबला कांटे का है। क्षेत्रीय दलों पर बहुत कुछ निर्भर करेगा। मोदी जी का मैं अकेला सब पर भारी का गुमान खत्म हो गया। वे तो बीजेपी को ही कुछ नहीं समझते थे। एनडीए को कुछ मानने का तो सवाल ही नहीं पैदा होता। जो हमेशा से भाजपा के सहयोगी रहे। खुद को नेचुरल अलायंस कहते थे उन शिवसेना और अकाली दल को न केवल अलग कर दिया बल्कि उनके खिलाफ खूब बोले भी। मगर अब कल वे एनडीए की मीटिंग बुला रहे हैं। 
बीजेपी में सुगबुगाहट शुरू हो गई है। पूरा चुनाव मोदी जो के नाम पर लड़ा गया। मोदी सरकार, मोदी परिवार, मोदी तीसरी बार। हर जगह सिर्फ मोदी मोदी। भाजपा का तो कहीं नाम ही नहीं। संघ जिसने मोदी को बनाया और मोदी क्या सारी भाजपा ही उसकी बनाई हुई है उसके लिए भाजपा अध्यक्ष नड्डा ने कह दिया कि हमें अब उसकी जरूरत नहीं। 
जैसे शिवसेना और अकाली दल को उठाकर फैंक दिया वैसे ही संघ को भी अनावश्यक करार दिया। जनता को तो पहले ही कुछ नहीं समझते थे। उसकी बेरोजगारी, महंगाई जैसी समस्याओं की बात तक नहीं करते थे। अभी कांग्रेस अध्यक्ष खरगे जी ने बताया था कि उन्होंने पिछले दो हफ्ते के आंकड़े इकट्ठे किए और उसमें मोदी जो ने 750 से ज्यादा बार सिर्फ मोदी मोदी बोला। और एक बार भी रोजगार नौकरी का नाम नहीं लिया। 
मतलब आज जनता की सबसे बड़ी समस्या बेरोजगारी है। और मोदी जी के लिए वह बात करने का भी विषय नहीं। जनता ने इसी का जवाब दिया है। 
2019 में 303 सीट दी थीं बीजेपी को अब 240 के करीब रोक दिया है। मतलब सामान्य बहुमत से भी पहले। 
इसे क्या कहते हैं? नकारना। जी हां जनता ने मोदी जो को नकार दिया है। दस साल झेला। अब और नहीं। 
प्रधानमंत्री कौन बनेगा पता नहीं। लेकिन अगर मोदी जी भी बनते हैं तो उनका वह भौकाल अब नहीं रहेगा। बनारस से कितने वोटों से जीतेंगे यह भी अभी यह लिखने तक पता नहीं। मगर जितने से भी जीतें उन शिवराज सिंह चौहान से बहुत पीछे होंगे जिन्हें उन्होंने बिना कारण मुख्यमंत्री पद से हटा दिया था। शिवराज आठ लाख से ज्यादा वोटों से जीते हैं। विनम्रता की जीत। हालत यह थी कि जब शिवराज मुख्यमंत्री थे तो मोदी उनके नमस्कार का भी जवाब नहीं देते थे। और जो मध्य प्रदेश में 2023 में विधानसभा में भाजपा की जीत हुई है। वह उन्हीं कि वजह से। उनकी लाडली बहन चली। 
तो अब यह बातें तो बीजेपी में होंगी कि शिवराज आठ लाख वोटों से जीतते हैं। और मोदी उनके आधे से भी नहीं। चौथाई से भी जीतना मतलब दो लाख से भी बड़ी बात हो रही है। 
इस जीत के साथ और यूपी में बड़ी हार के साथ अगर मोदी प्रधानमंत्री भी बनते हैं तो राजनाथ सिंह और गडकरी जैसे वरिष्ठ नेता अब किनारे नहीं रहेंगे। वाजपेयी के समय में जैसे सभी नेता बराबर सम्मान पाते थे। सबका महत्व था वह दिन भाजपा में वापस आ सकता है।
और इसका पूरा श्रेय जाता है राहुल गांधी को। उनकी कन्सिसटेन्सी ( निरंतरता) निराश नहीं होना, साहस और मेहनत ने यह तस्वीर बदली है। पता नहीं क्या होगा। हो सकता है इन्डिया की सरकार बन जाए। नीतीश कुमार और चन्द्रबाबू नायडू पाला बदल लें। कुछ भी हो सकता है। लेकिन अगर एनडीए की भी सरकार बनती है और मोदी जी ही प्रधानमंत्री बनते हैं तो कम से कम यह मिथ तो टूट जाएगा कि मोदी को हराया नहीं जा सकता। 
लोकतंत्र की वापसी। पहले जैसे चुनाव होते थे वैसे वापस होने की शुरूआत। हार जीत को खेल की भावना से लेना फिर शुरू होना भी बड़ी जीत है। 
अभी तो हाल यह था कि रात तक कहा जा रहा था कि समाजवादी पार्टी यूपी में दंगा करवा रही है। मतलब समाजवादी पार्टी ने कहा कि सचेत रहो तो इसे उन्होंने ऐसे पेश किया कि सपा लोगों को भड़का रही है। रात को कई सपा के नेताओं को घरों में नजरबंद किया गया। मगर सुबह मतगणना शुरू होते ही माहौल बदल गया। 
इस चुनाव में अगर दो लोगों का ग्राफ गिरा है मोदी और योगी का तो दो का ग्राफ बढ़ा भी है। राहुल और अखिलेश का। राहुल की हिम्मत तो लाजवाब रही ही। अखिलेश का पीडीए का फार्म्यूला भी जबर्दस्त चला। पीडीए मतलब पी से पिछड़ा डी से दलित और ए से अल्पसंख्यक। तीनों एकजूट हो गए। इसमें खास बात यह है कि पिछड़ों में गैर यादव भी अखिलेश के साथ आए। और दलितों का आना तो निर्णायक रहा। यह तो सबको मालूम था कि दलित मायावती से टूटा है। मगर वह भाजपा में न जाकर अखिलेश और कांग्रेस के साथ आया यह बड़ी बात थी। एक कहानी जबर्दस्ती की बनाई जा रही थी कि दलित सपा के साथ नहीं जा सकता। इस चुनाव ने यह धारणा तोड़ दी। संविधान के नाम पर, आरक्षण के नाम पर, जाति गणना के नाम पर दलित और पिछड़े एक हो गए। और अल्पसंख्यक भी मायावती की तरफ जरा भी नहीं गया। सपा और कांग्रेस में उसने अपना विश्वास बनाए रखा। 
चुनाव हो गए। लोकतंत्र और जनता जीत गई। मोदी और योगी मानें या नहीं मानें जनता ने दोनों को कड़ा सबक सिखाया है। दोनों का अहंकार इतना बढ़ गया कि दोनों एक दूसरे को भी मानने को तैयार नहीं थे। चुनाव ने बताया कि जनता दोनों को मानने को तैयार नहीं है। जनता को अहंकार नहीं भाता।
---
साभार: नया इंडिया 

टिप्पणियाँ

ट्रेंडिंग

हिंदी आलोचना जैसे पिछड़ चुके अनुशासन की जगह हिंदी वैचारिकी का विकास जरूरी

- प्रमोद रंजन*   भारतीय राजनीति में सांप्रदायिक व प्रतिक्रियावादी ताकतों को सत्ता तक पहुंचाने में हिंदी पट्टी का सबसे बड़ा योगदान है। इसका मुख्य कारण हिंदी-पट्टी में कार्यरत समाजवादी व जनपक्षधर हिरावल दस्ते का विचारहीन, अनैतिक और  प्रतिक्रियावादी होते जाना है। अगर हम उपरोक्त बातों को स्वीकार करते हैं, तो कुछ रोचक निष्कर्ष निकलते हैं। हिंदी-जनता और उसके हिरावल दस्ते को विचारहीन और प्रतिक्रियावादी बनने से रोकने की मुख्य ज़िम्मेदारी किसकी थी?

नरेन्द्र मोदी देवत्व की ओर? 1923 में हिटलर ने अपनी तुलना भी ईसा मसीह से की थी

- राम पुनियानी*  समाज के संचालन की प्रजातान्त्रिक प्रणाली को मानव जाति ने एक लम्बे और कठिन संघर्ष के बाद हासिल किया. प्रजातंत्र के आगाज़ के पूर्व के समाजों में राजशाही थी. राजशाही में राजा-सामंतों और पुरोहित वर्ग का गठबंधन हुआ करता था. पुरोहित वर्ग, धर्म की ताकत का प्रतिनिधित्व करता था. राजा को ईश्वर का प्रतिरूप बताया जाता था और उसकी कथनी-करनी को पुरोहित वर्ग हमेशा उचित, न्यायपूर्ण और सही ठहराता था. पुरोहित वर्ग ने बड़ी चतुराई से स्वर्ग (हैवन, जन्नत) और नर्क (हैल, जहन्नुम) के मिथक रचे. राजा-पुरोहित कॉम्बो के आदेशों को सिर-आँखों पर रखने वाला पुण्य (सबाब) करता है और इससे उसे पॉजिटिव पॉइंट मिलते हैं. दूसरी ओर, जो इनके आदेशों का उल्लंघन करता है वह पाप (गुनाह) करता है और उसे नेगेटिव पॉइंट मिलते हैं. व्यक्ति की मृत्यु के बाद नेगेटिव और पॉजिटिव पॉइंटों को जोड़ कर यह तय किया जाता है कि वह नर्क में सड़ेगा या स्वर्ग में आनंद करेगा.

ગુજરાતી સાહિત્યકારો જોગ એક ખુલ્લો પત્ર: અરુંધતિ રોય અને સાહિત્યકારની સ્વતંત્રતા

- પ્રો. હેમંતકુમાર શાહ*  માનનીય સાહિત્યકારશ્રીઓ, નમસ્કાર. અર્થશાસ્ત્ર અને રાજ્યશાસ્ત્રનો વિદ્યાર્થી હોવા છતાં હું ગુજરાતી, હિન્દી અને વૈશ્વિક સાહિત્યનો ચાહક અને વાચક હોવાને નાતે આપ સૌને વિનમ્રભાવે આ ખુલ્લો પત્ર લખી રહ્યો છું. આપને સલાહ આપવાની મારી કોઈ ઓકાત નથી પણ આપ સામે આક્રોશ અને વેદના વ્યક્ત કરી રહ્યો છું.

साहित्य बोध में परिवर्तन: सत्तर के दशक में विचारधारा का महत्व बहुत अधिक था

- अजय तिवारी   सत्तर के बाद वाले दशक में जब हम लोग साहित्य में प्रवेश कर रहे थे तब दाढ़ी रखने, बेतरतीबी से कपड़े पहनने और फक्कड़पन का जीवन जीने वाले लोग बेहतर लेखक हुआ करते थे या बेहतर समझे जाते थे। नयी सदी में चिकने-चुपड़े, बने-ठने और खर्चीला जीवन बिताने वाले सम्मान के हक़दार हो चले हैं। यह फ़र्क़ जनवादी उभार और भूमण्डलीय उदारीकरण के बीच का सांस्कृतिक अंतर उजागर करता है। 

एनडीए सरकार में हिन्दू राष्ट्रवाद की दिशा: मुसलमानों का हाशियाकरण जारी रहेगा

- राम पुनियानी*  लोकसभा आमचुनाव में भाजपा के 272 सीटें हासिल करने में विफल रहने के बाद एनडीए एक बार फिर नेपथ्य से मंच के केंद्र में आ गया है. सन 1998 में अटलबिहारी वाजपेई एनडीए सरकार के प्रधानमंत्री बने थे. उस सरकार के कार्यकलापों पर भी भाजपा की राजनीति का ठप्पा था. उस सरकार ने हिंदुत्व के एजेंडे के अनुरूप संविधान की समीक्षा के लिए वेंकटचलैया आयोग नियुक्त किया, पाठ्यपुस्तकों का भगवाकरण किया और ज्योतिषशास्त्र व पौरोहित्य को विषय के रूप में पाठ्यक्रम में जोड़ा. सन 2014 और 2019 में बनी मोदी सरकारें तकनीकी दृष्टि से भले ही एनडीए की सरकारें रही हों मगर चूँकि भाजपा को अपने दम पर बहुमत हासिल था इसलिए अन्य घटक दल साइलेंट मोड में बने रहे और भाजपा ने बिना रोकटोक अपना आक्रामक हिन्दू राष्ट्रवादी एजेंडा लागू किया. इसमें शामिल था राममंदिर का निर्माण और अनुच्छेद 370 का कश्मीर से हटाया जाना. इसके अलावा सरकार की मौन सहमति से गाय और बीफ के नाम पर मुसलमानों की लिंचिंग की गयी और लव जिहाद और न जाने कितने अन्य किस्मों के जिहादों की बातें की गईं.

ગુજરાતમાં શહેરોને સમકક્ષ ગામડાઓના વીકાસની પબ્લીક ડીમાન્ડ કેમ ઉભી નથી થતી

- કિરણ ત્રિવેદી  હું 1982માં વડોદરાથી ભણીને અમદાવાદમાં સેટલ થવા આવેલો, ત્યારે અમદાવાદ શહેરની વસ્તી 26 લાખ હતી. ત્યારે પણ અમદાવાદ શહેર ગીચ અને અનમેનેજેબલ લાગતું હતું. 20 વર્ષ પછી 2002 આસપાસ શહેરની વસ્તી ડબલ થઈ ગઈ હતી! 52 લાખની! આજે 2024માં વસ્તી અંદાજે 90 લાખની ગણાય છે!

ત્રણ નવા ફોજદારી કાયદાનો અમલ મોકૂફ રાખવા બાબતે સંબંધિત નાગરિકો તરફથી અપીલ...

- રમેશ સવાણી*  ચાલો, નાગરિક ધર્મ નિભાવીએ!  શ્રી એન.ચંદ્રબાબુ નાયડુ8 પ્રમુખ, તેલુગુ દેશમ પાર્ટી ને પત્ર. વિષય : ત્રણ નવા ફોજદારી કાયદાનો અમલ મોકૂફ રાખવા બાબતે સંબંધિત નાગરિકો તરફથી અપીલ...  ***